dekh hamaare maathe par ye dast-e-talab ki dhool miyaan | देख हमारे माथे पर ये दश्त-ए-तलब की धूल मियाँ - Ibn E Insha

dekh hamaare maathe par ye dast-e-talab ki dhool miyaan
ham se ajab tira dard ka naata dekh hamein mat bhool miyaan

ahl-e-wafa se baat na karna hoga tira usool miyaan
ham kyun chhodein un galiyon ke pheron ka maamool miyaan

yoonhi to nahin dasht mein pahunchen yoonhi to nahin jog liya
basti basti kaante dekhe jungle jungle phool miyaan

ye to kaho kabhi ishq kiya hai jag mein hue ho rusva bhi
is ke siva ham kuchh bhi na poochen baaki baat fuzool miyaan

nasb karein mehrab-e-tamanna deeda o dil ko farsh karein
sunte hain vo koo-e-wafa mein aaj karenge nuzool miyaan

sun to liya kisi naar ki khaatir kaata koh nikaali nahar
ek zara se qisse ko ab dete kyun ho tool miyaan

khelne den unhen ishq ki baazi kheleinge to seekhenge
qais ki ya farhaad ki khaatir khole kya school miyaan

ab to hamein manzoor hai ye bhi shehar se nikliin rusva hoon
tujh ko dekha baatein kar leen mehnat hui vasool miyaan

insha jee kya uzr hai tum ko naqd-e-dil-o-jaan nazr karo
roop-nagar ke naake par ye lagta hai mahsool miyaan

देख हमारे माथे पर ये दश्त-ए-तलब की धूल मियाँ
हम से अजब तिरा दर्द का नाता देख हमें मत भूल मियाँ

अहल-ए-वफ़ा से बात न करना होगा तिरा उसूल मियाँ
हम क्यूँ छोड़ें उन गलियों के फेरों का मामूल मियाँ

यूँही तो नहीं दश्त में पहुँचे यूँही तो नहीं जोग लिया
बस्ती बस्ती काँटे देखे जंगल जंगल फूल मियाँ

ये तो कहो कभी इश्क़ किया है जग में हुए हो रुस्वा भी?
इस के सिवा हम कुछ भी न पूछें बाक़ी बात फ़ुज़ूल मियाँ

नस्ब करें मेहराब-ए-तमन्ना दीदा ओ दिल को फ़र्श करें
सुनते हैं वो कू-ए-वफ़ा में आज करेंगे नुज़ूल मियाँ

सुन तो लिया किसी नार की ख़ातिर काटा कोह निकाली नहर
एक ज़रा से क़िस्से को अब देते क्यूँ हो तूल मियाँ

खेलने दें उन्हें इश्क़ की बाज़ी खेलेंगे तो सीखेंगे
'क़ैस' की या 'फ़रहाद' की ख़ातिर खोलें क्या स्कूल मियाँ

अब तो हमें मंज़ूर है ये भी शहर से निकलीं रुस्वा हूँ
तुझ को देखा बातें कर लीं मेहनत हुई वसूल मियाँ

'इंशा' जी क्या उज़्र है तुम को नक़्द-ए-दिल-ओ-जाँ नज़्र करो
रूप-नगर के नाके पर ये लगता है महसूल मियाँ

- Ibn E Insha
0 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ibn E Insha

As you were reading Shayari by Ibn E Insha

Similar Writers

our suggestion based on Ibn E Insha

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari