aaye kya kya yaad nazar jab padti in daalaanon par | आए क्या क्या याद नज़र जब पड़ती इन दालानों पर - Jaan Nisar Akhtar

aaye kya kya yaad nazar jab padti in daalaanon par
us ka kaaghaz chipka dena ghar ke raushan-daanon par

aaj bhi jaise shaane par tum haath mere rakh deti ho
chalte chalte ruk jaata hoon saari ki dukaanon par

barkha ki to baat hi chhodo chanchal hai purvaai bhi
jaane kis ka sabz dupatta fenk gai hai dhaanon par

shehar ke tapte futpaathon par gaav ke mausam saath chalen
boodhe bargad haath sa rakh den mere jalte shaanon par

saste daamon le to aate lekin dil tha bhar aaya
jaane kis ka naam khuda tha peetal ke gul-daano par

us ka kya man-bhed bataaun us ka kya andaaz kahoon
baat bhi meri sunna chahe haath bhi rakhe kaanon par

aur bhi seena kasne lagta aur kamar bal kha jaati
jab bhi us ke paanv fisalne lagte the dhalwaanon par

sher to un par likkhe lekin auron se mansoob kiye
un ko kya kya gussa aaya nazmon ke unwaanon par

yaaro apne ishq ke qisse yun bhi kam mashhoor nahin
kal to shaayad novel likkhe jaayen in roomaanon par

आए क्या क्या याद नज़र जब पड़ती इन दालानों पर
उस का काग़ज़ चिपका देना घर के रौशन-दानों पर

आज भी जैसे शाने पर तुम हाथ मिरे रख देती हो
चलते चलते रुक जाता हूँ सारी की दूकानों पर

बरखा की तो बात ही छोड़ो चंचल है पुर्वाई भी
जाने किस का सब्ज़ दुपट्टा फेंक गई है धानों पर

शहर के तपते फ़ुटपाथों पर गाँव के मौसम साथ चलें
बूढ़े बरगद हाथ सा रख दें मेरे जलते शानों पर

सस्ते दामों ले तो आते लेकिन दिल था भर आया
जाने किस का नाम खुदा था पीतल के गुल-दानों पर

उस का क्या मन-भेद बताऊँ उस का क्या अंदाज़ कहूँ
बात भी मेरी सुनना चाहे हाथ भी रक्खे कानों पर

और भी सीना कसने लगता और कमर बल खा जाती
जब भी उस के पाँव फिसलने लगते थे ढलवानों पर

शेर तो उन पर लिक्खे लेकिन औरों से मंसूब किए
उन को क्या क्या ग़ुस्सा आया नज़्मों के उनवानों पर

यारो अपने इश्क़ के क़िस्से यूँ भी कम मशहूर नहीं
कल तो शायद नॉवेल लिक्खे जाएँ इन रूमानों पर

- Jaan Nisar Akhtar
1 Like

Promise Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaan Nisar Akhtar

As you were reading Shayari by Jaan Nisar Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Jaan Nisar Akhtar

Similar Moods

As you were reading Promise Shayari Shayari