kitne aish se rahte honge kitne itraate honge | कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे - Jaun Elia

kitne aish se rahte honge kitne itraate honge
jaane kaise log vo honge jo us ko bhaate honge

shaam hue khush-baash yahan ke mere paas aa jaate hain
mere bujhne ka nazzara karne aa jaate honge

vo jo na aane waala hai na us se mujh ko matlab tha
aane waalon se kya matlab aate hain aate honge

us ki yaad ki baad-e-saba mein aur to kya hota hoga
yoonhi mere baal hain bikhre aur bikhar jaate honge

yaaro kuchh to zikr karo tum us ki qayamat baanhon ka
vo jo simtate honge un mein vo to mar jaate honge

mera saans ukhadte hi sab bein karenge roenge
ya'ni mere ba'ad bhi ya'ni saans liye jaate honge

कितने ऐश से रहते होंगे कितने इतराते होंगे
जाने कैसे लोग वो होंगे जो उस को भाते होंगे

शाम हुए ख़ुश-बाश यहाँ के मेरे पास आ जाते हैं
मेरे बुझने का नज़्ज़ारा करने आ जाते होंगे

वो जो न आने वाला है ना उस से मुझ को मतलब था
आने वालों से क्या मतलब आते हैं आते होंगे

उस की याद की बाद-ए-सबा में और तो क्या होता होगा
यूँही मेरे बाल हैं बिखरे और बिखर जाते होंगे

यारो कुछ तो ज़िक्र करो तुम उस की क़यामत बाँहों का
वो जो सिमटते होंगे उन में वो तो मर जाते होंगे

मेरा साँस उखड़ते ही सब बैन करेंगे रोएँगे
या'नी मेरे बा'द भी या'नी साँस लिए जाते होंगे

- Jaun Elia
68 Likes

Masti Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Masti Shayari Shayari