sar hi ab phodiye nadaamat mein | सर ही अब फोड़िए नदामत में - Jaun Elia

sar hi ab phodiye nadaamat mein
neend aane lagi hai furqat mein

hain daleelen tire khilaaf magar
sochta hoontiri himayat mein

rooh ne ishq ka fareb diya
jism ko jism ki adavat mein

ab faqat aadaton ki varzish hai
rooh shaamil nahin shikaayat mein

ishq ko darmiyaann laao ki main
cheekhta hoombadan ki usrut mein

ye kuch aasaan to nahin hai ki hum
roothe ab bhi hain muravvat mein

vo jo taameer hone waali thi
lag gai aag us imarat mein

zindagi kis tarah basar hogi
dil nahin lag raha mohabbat mein

haasil-e-kun hai ye jahaan-e-kharaab
yahi mumkin tha itni ujlat mein

phir banaya khuda ne aadam ko
apni soorat pe aisi soorat mein

ai khuda jo kahi nahin maujood
kya likha hai hamaari qismat mein

सर ही अब फोड़िए नदामत में
नींद आने लगी है फ़ुर्क़त में

हैं दलीलें तिरे ख़िलाफ़ मगर
सोचता हूंतिरी हिमायत में

रूह ने इश्क़ का फ़रेब दिया
जिस्म को जिस्म की अदावत में

अब फ़क़त आदतों की वर्ज़िश है
रूह शामिल नहीं शिकायत में

इश्क़ को दरमियांन लाओ कि मैं
चीख़ता हूंबदन की उसरत में

ये कुछ आसान तो नहीं है कि हम
रूठते अब भी हैं मुरव्वत में

वो जो तामीर होने वाली थी
लग गई आग उस इमारत में

ज़िंदगी किस तरह बसर होगी
दिल नहीं लग रहा मोहब्बत में

हासिल-ए-कुन है ये जहान-ए-ख़राब
यही मुमकिन था इतनी उजलत में

फिर बनाया ख़ुदा ने आदम को
अपनी सूरत पे ऐसी सूरत में

ऐ ख़ुदा जो कहीं नहीं मौजूद
क्या लिखा है हमारी क़िस्मत में

- Jaun Elia
25 Likes

Aag Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Jaun Elia

As you were reading Shayari by Jaun Elia

Similar Writers

our suggestion based on Jaun Elia

Similar Moods

As you were reading Aag Shayari Shayari