vo dhal raha hai to ye bhi rangat badal rahi hai | वो ढल रहा है तो ये भी रंगत बदल रही है - Javed Akhtar

vo dhal raha hai to ye bhi rangat badal rahi hai
zameen suraj ki ungliyon se fisal rahi hai

jo mujh ko zinda jala rahe hain vo be-khabar hain
ki meri zanjeer dheere dheere pighal rahi hai

main qatl to ho gaya tumhaari gali mein lekin
mere lahu se tumhaari deewaar gal rahi hai

na jalne paate the jis ke choolhe bhi har savere
suna hai kal raat se vo basti bhi jal rahi hai

main jaanta hoon ki khaamoshi mein hi maslahat hai
magar yahi maslahat mere dil ko khal rahi hai

kabhi to insaan zindagi ki karega izzat
ye ek ummeed aaj bhi dil mein pal rahi hai

वो ढल रहा है तो ये भी रंगत बदल रही है
ज़मीन सूरज की उँगलियों से फिसल रही है

जो मुझ को ज़िंदा जला रहे हैं वो बे-ख़बर हैं
कि मेरी ज़ंजीर धीरे धीरे पिघल रही है

मैं क़त्ल तो हो गया तुम्हारी गली में लेकिन
मिरे लहू से तुम्हारी दीवार गल रही है

न जलने पाते थे जिस के चूल्हे भी हर सवेरे
सुना है कल रात से वो बस्ती भी जल रही है

मैं जानता हूँ कि ख़ामुशी में ही मस्लहत है
मगर यही मस्लहत मिरे दिल को खल रही है

कभी तो इंसान ज़िंदगी की करेगा इज़्ज़त
ये एक उम्मीद आज भी दिल में पल रही है

- Javed Akhtar
2 Likes

Breakup Motivation Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Breakup Motivation Shayari Shayari