sach ye hai be-kaar humein gham hota hai | सच ये है बे-कार हमें ग़म होता है - Javed Akhtar

sach ye hai be-kaar humein gham hota hai
jo chaaha tha duniya mein kam hota hai

dhalt suraj faila jungle rasta gum
hum se poocho kaisa aalam hota hai

ghairoon ko kab furqat hai dukh dene ki
jab hota hai koi hamdam hota hai

zakham to hum ne in aankhon se dekhe hain
logon se sunte hain marham hota hai

zehan ki shaakhon par ashaar aa jaate hain
jab teri yaadon ka mausam hota hai

सच ये है बे-कार हमें ग़म होता है
जो चाहा था दुनिया में कम होता है

ढलता सूरज फैला जंगल रस्ता गुम
हम से पूछो कैसा आलम होता है

ग़ैरों को कब फ़ुर्सत है दुख देने की
जब होता है कोई हमदम होता है

ज़ख़्म तो हम ने इन आँखों से देखे हैं
लोगों से सुनते हैं मरहम होता है

ज़ेहन की शाख़ों पर अशआर आ जाते हैं
जब तेरी यादों का मौसम होता है

- Javed Akhtar
2 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari