zindagi ki aandhi mein zehan ka shajar tanhaa | ज़िंदगी की आँधी में ज़ेहन का शजर तन्हा - Javed Akhtar

zindagi ki aandhi mein zehan ka shajar tanhaa
tum se kuchh sahaara tha aaj hoon magar tanhaa

zakham-khurda lamhon ko maslahat sambhaale hai
an-ginat mareezon mein ek chaaragar tanhaa

boond jab thi baadal mein zindagi thi halchal mein
qaid ab sadaf mein hai ban ke hai guhar tanhaa

tum fuzool baaton ka dil pe bojh mat lena
ham to khair kar lenge zindagi basar tanhaa

ik khilauna jogi se kho gaya tha bachpan mein
dhoondhta fira us ko vo nagar nagar tanhaa

jhutpute ka aalam hai jaane kaun aadam hai
ik lahd pe rota hai munh ko dhanp kar tanhaa

ज़िंदगी की आँधी में ज़ेहन का शजर तन्हा
तुम से कुछ सहारा था आज हूँ मगर तन्हा

ज़ख़्म-ख़ुर्दा लम्हों को मस्लहत सँभाले है
अन-गिनत मरीज़ों में एक चारागर तन्हा

बूँद जब थी बादल में ज़िंदगी थी हलचल में
क़ैद अब सदफ़ में है बन के है गुहर तन्हा

तुम फ़ुज़ूल बातों का दिल पे बोझ मत लेना
हम तो ख़ैर कर लेंगे ज़िंदगी बसर तन्हा

इक खिलौना जोगी से खो गया था बचपन में
ढूँढ़ता फिरा उस को वो नगर नगर तन्हा

झुटपुटे का आलम है जाने कौन आदम है
इक लहद पे रोता है मुँह को ढाँप कर तन्हा

- Javed Akhtar
4 Likes

Shajar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Shajar Shayari Shayari