main kab se kitna hoon tanhaa tujhe pata bhi nahin | मैं कब से कितना हूँ तन्हा तुझे पता भी नहीं - Javed Akhtar

main kab se kitna hoon tanhaa tujhe pata bhi nahin
tira to koi khuda hai mera khuda bhi nahin

kabhi ye lagta hai ab khatm ho gaya sab kuch
kabhi ye lagta hai ab tak to kuch hua bhi nahin

kabhi to baat ki us ne kabhi raha khaamosh
kabhi to hans ke mila aur kabhi mila bhi nahin

kabhi jo talkh-kalaami thi vo bhi khatm hui
kabhi gila tha humein un se ab gila bhi nahin

vo cheekh ubhri badi der goonji doob gai
har ek sunta tha lekin koi hila bhi nahin

मैं कब से कितना हूँ तन्हा तुझे पता भी नहीं
तिरा तो कोई ख़ुदा है मिरा ख़ुदा भी नहीं

कभी ये लगता है अब ख़त्म हो गया सब कुछ
कभी ये लगता है अब तक तो कुछ हुआ भी नहीं

कभी तो बात की उस ने कभी रहा ख़ामोश
कभी तो हँस के मिला और कभी मिला भी नहीं

कभी जो तल्ख़-कलामी थी वो भी ख़त्म हुई
कभी गिला था हमें उन से अब गिला भी नहीं

वो चीख़ उभरी बड़ी देर गूँजी डूब गई
हर एक सुनता था लेकिन कोई हिला भी नहीं

- Javed Akhtar
3 Likes

Shikwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Shikwa Shayari Shayari