hamaare shauq ki ye intiha thi | हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी - Javed Akhtar

hamaare shauq ki ye intiha thi
qadam rakha ki manzil raasta thi

bichhad ke daar se ban ban fira vo
hiran ko apni kastoori saza thi

kabhi jo khwaab tha vo pa liya hai
magar jo kho gai vo cheez kya thi

main bachpan mein khilone todta tha
mere anjaam ki vo ibtida thi

mohabbat mar gai mujh ko bhi gham hai
mere achhe dinon ki aashna thi

jise choo luun main vo ho jaaye sona
tujhe dekha to jaana bad-dua thi

mareez-e-khwab ko to ab shifaa hai
magar duniya badi kadvi dava thi

हमारे शौक़ की ये इंतिहा थी
क़दम रक्खा कि मंज़िल रास्ता थी

बिछड़ के डार से बन बन फिरा वो
हिरन को अपनी कस्तूरी सज़ा थी

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था
मिरे अंजाम की वो इब्तिदा थी

मोहब्बत मर गई मुझ को भी ग़म है
मिरे अच्छे दिनों की आश्ना थी

जिसे छू लूँ मैं वो हो जाए सोना
तुझे देखा तो जाना बद-दुआ' थी

मरीज़-ए-ख़्वाब को तो अब शिफ़ा है
मगर दुनिया बड़ी कड़वी दवा थी

- Javed Akhtar
0 Likes

Raasta Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Raasta Shayari Shayari