ye mujh se poochte hain chaaragar kyun | ये मुझ से पूछते हैं चारागर क्यूँ - Javed Akhtar

ye mujh se poochte hain chaaragar kyun
ki tu zinda to hai ab tak magar kyun

jo rasta chhod ke main ja raha hoon
usi raaste pe jaati hai nazar kyun

thakan se choor paas aaya tha us ke
gira sote mein mujh par ye shajar kyun

sunaayenge kabhi furqat mein tum ko
ki ham barson rahe hain dar-b-dar kyun

yahan bhi sab hain begaana hi mujh se
kahoon main kya ki yaad aaya hai ghar kyun

main khush rehta agar samjha na hota
ye duniya hai to main hoon deeda-war kyun

ये मुझ से पूछते हैं चारागर क्यूँ
कि तू ज़िंदा तो है अब तक मगर क्यूँ

जो रस्ता छोड़ के मैं जा रहा हूँ
उसी रस्ते पे जाती है नज़र क्यूँ

थकन से चूर पास आया था उस के
गिरा सोते में मुझ पर ये शजर क्यूँ

सुनाएँगे कभी फ़ुर्सत में तुम को
कि हम बरसों रहे हैं दर-ब-दर क्यूँ

यहाँ भी सब हैं बेगाना ही मुझ से
कहूँ मैं क्या कि याद आया है घर क्यूँ

मैं ख़ुश रहता अगर समझा न होता
ये दुनिया है तो मैं हूँ दीदा-वर क्यूँ

- Javed Akhtar
2 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari