dil mein mahak rahe hain kisi aarzoo ke phool | दिल में महक रहे हैं किसी आरज़ू के फूल - Javed Akhtar

dil mein mahak rahe hain kisi aarzoo ke phool
palkon pe khilne waale hain shaayad lahu ke phool

ab tak hai koi baat mujhe yaad harf harf
ab tak main chun raha hoon kisi guftugoo ke phool

kaliyaan chatk rahi theen ki awaaz thi koi
ab tak sama'aton mein hain ik khush-guloo ke phool

mere lahu ka rang hai har nok-e-khaar par
sehra mein har taraf hain meri justuju ke phool

deewane kal jo log the phoolon ke ishq mein
ab un ke daamanoń mein bhare hain rafu ke phool

दिल में महक रहे हैं किसी आरज़ू के फूल
पलकों पे खिलने वाले हैं शायद लहू के फूल

अब तक है कोई बात मुझे याद हर्फ़ हर्फ़
अब तक मैं चुन रहा हूँ किसी गुफ़्तुगू के फूल

कलियाँ चटक रही थीं कि आवाज़ थी कोई
अब तक समाअतों में हैं इक ख़ुश-गुलू के फूल

मेरे लहू का रंग है हर नोक-ए-ख़ार पर
सहरा में हर तरफ़ हैं मिरी जुस्तुजू के फूल

दीवाने कल जो लोग थे फूलों के इश्क़ में
अब उन के दामनों में भरे हैं रफ़ू के फूल

- Javed Akhtar
2 Likes

Festive Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Festive Shayari Shayari