pyaas ki kaise laaye taab koi | प्यास की कैसे लाए ताब कोई - Javed Akhtar

pyaas ki kaise laaye taab koi
nahin dariya to ho saraab koi

zakhm-e-dil mein jahaan mahakta hai
isee kyaari mein tha gulaab koi

raat bajti thi door shehnai
roya pee kar bahut sharaab koi

dil ko ghere hain rozgaar ke gham
raddi mein kho gai kitaab koi

kaun sa zakham kis ne baksha hai
is ka rakhe kahaan hisaab koi

phir main sunne laga hoon is dil ki
aane waala hai phir azaab koi

shab ki dahleez par shafaq hai lahu
phir hua qatl aftaab koi

प्यास की कैसे लाए ताब कोई
नहीं दरिया तो हो सराब कोई

ज़ख़्म-ए-दिल में जहाँ महकता है
इसी क्यारी में था गुलाब कोई

रात बजती थी दूर शहनाई
रोया पी कर बहुत शराब कोई

दिल को घेरे हैं रोज़गार के ग़म
रद्दी में खो गई किताब कोई

कौन सा ज़ख़्म किस ने बख़्शा है
इस का रक्खे कहाँ हिसाब कोई

फिर मैं सुनने लगा हूँ इस दिल की
आने वाला है फिर अज़ाब कोई

शब की दहलीज़ पर शफ़क़ है लहू
फिर हुआ क़त्ल आफ़्ताब कोई

- Javed Akhtar
2 Likes

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari