nigal gaye sab ki sab samundar zameen bachi ab kahi nahin hai | निगल गए सब की सब समुंदर ज़मीं बची अब कहीं नहीं है - Javed Akhtar

nigal gaye sab ki sab samundar zameen bachi ab kahi nahin hai
bachaate ham apni jaan jis mein vo kashti bhi ab kahi nahin hai

bahut dinon ba'ad paai furqat to main ne khud ko palat ke dekha
magar main pahchaanta tha jis ko vo aadmi ab kahi nahin hai

guzar gaya waqt dil pe likh kar na jaane kaisi ajeeb baatein
varq palatta hoon main jo dil ke to saadgi ab kahi nahin hai

vo aag barsi hai dopahar mein ki saare manzar jhuls gaye hain
yahan savere jo taazgi thi vo taazgi ab kahi nahin hai

tum apne qasbon mein ja ke dekho wahan bhi ab shehar hi base hain
ki dhundhte ho jo zindagi tum vo zindagi ab kahi nahin hai

निगल गए सब की सब समुंदर ज़मीं बची अब कहीं नहीं है
बचाते हम अपनी जान जिस में वो कश्ती भी अब कहीं नहीं है

बहुत दिनों बा'द पाई फ़ुर्सत तो मैं ने ख़ुद को पलट के देखा
मगर मैं पहचानता था जिस को वो आदमी अब कहीं नहीं है

गुज़र गया वक़्त दिल पे लिख कर न जाने कैसी अजीब बातें
वरक़ पलटता हूँ मैं जो दिल के तो सादगी अब कहीं नहीं है

वो आग बरसी है दोपहर में कि सारे मंज़र झुलस गए हैं
यहाँ सवेरे जो ताज़गी थी वो ताज़गी अब कहीं नहीं है

तुम अपने क़स्बों में जा के देखो वहाँ भी अब शहर ही बसे हैं
कि ढूँढते हो जो ज़िंदगी तुम वो ज़िंदगी अब कहीं नहीं है

- Javed Akhtar
1 Like

Waqt Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Waqt Shayari Shayari