shehar ke dukaa'n-daaro kaarobaar-e-ulfat mein sood kya ziyaan kya hai tum na jaan paoge | शहर के दुकाँ-दारो कारोबार-ए-उल्फ़त में सूद क्या ज़ियाँ क्या है तुम न जान पाओगे - Javed Akhtar

shehar ke dukaa'n-daaro kaarobaar-e-ulfat mein sood kya ziyaan kya hai tum na jaan paoge
dil ke daam kitne hain khwaab kitne mehnge hain aur naqd-e-jaan kya hai tum na jaan paoge

koi kaise milta hai phool kaise khilta hai aankh kaise jhukti hai saans kaise rukti hai
kaise rah nikalti hai kaise baat chalti hai shauq ki zabaan kya hai tum na jaan paoge

vasl ka sukoon kya hai hijr ka junoon kya hai husn ka fusoon kya hai ishq ka daroon kya hai
tum mareez-e-daanaai maslahat ke shaidai raah-e-gum-rahan kya hai tum na jaan paoge

zakham kaise phalte hain daagh kaise jalte hain dard kaise hota hai koi kaise rota hai
ashk kya hai naale kya dasht kya hai chaale kya aah kya fugaan kya hai tum na jaan paoge

na-muraad dil kaise subh-o-shaam karte hain kaise zinda rahte hain aur kaise marte hain
tum ko kab nazar aayi gham-zadon ki tanhaai zeest be-amaan kya hai tum na jaan paoge

jaanta hoon main tum ko zaauq-e-shaayari bhi hai shakhsiyat sajaane mein ik ye maahri bhi hai
phir bhi harf chunte ho sirf lafz sunte ho un ke darmiyaan kya hai tum na jaan paoge

शहर के दुकाँ-दारो कारोबार-ए-उल्फ़त में सूद क्या ज़ियाँ क्या है तुम न जान पाओगे
दिल के दाम कितने हैं ख़्वाब कितने महँगे हैं और नक़्द-ए-जाँ क्या है तुम न जान पाओगे

कोई कैसे मिलता है फूल कैसे खिलता है आँख कैसे झुकती है साँस कैसे रुकती है
कैसे रह निकलती है कैसे बात चलती है शौक़ की ज़बाँ क्या है तुम न जान पाओगे

वस्ल का सुकूँ क्या है हिज्र का जुनूँ क्या है हुस्न का फ़ुसूँ क्या है इश्क़ का दरूँ क्या है
तुम मरीज़-ए-दानाई मस्लहत के शैदाई राह-ए-गुम-रहाँ क्या है तुम न जान पाओगे

ज़ख़्म कैसे फलते हैं दाग़ कैसे जलते हैं दर्द कैसे होता है कोई कैसे रोता है
अश्क क्या है नाले क्या दश्त क्या है छाले क्या आह क्या फ़ुग़ाँ क्या है तुम न जान पाओगे

ना-मुराद दिल कैसे सुब्ह-ओ-शाम करते हैं कैसे ज़िंदा रहते हैं और कैसे मरते हैं
तुम को कब नज़र आई ग़म-ज़दों की तन्हाई ज़ीस्त बे-अमाँ क्या है तुम न जान पाओगे

जानता हूँ मैं तुम को ज़ौक़-ए-शाएरी भी है शख़्सियत सजाने में इक ये माहरी भी है
फिर भी हर्फ़ चुनते हो सिर्फ़ लफ़्ज़ सुनते हो उन के दरमियाँ क्या है तुम न जान पाओगे

- Javed Akhtar
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari