vo zamaana guzar gaya kab ka | वो ज़माना गुज़र गया कब का - Javed Akhtar

vo zamaana guzar gaya kab ka
tha jo deewaana mar gaya kab ka

dhoondhta tha jo ik nayi duniya
loot ke apne ghar gaya kab ka

vo jo laaya tha hum ko dariya tak
paar akela utar gaya kab ka

us ka jo haal hai wahi jaane
apna to zakham bhar gaya kab ka

khwaab-dar-khwaab tha jo sheeraza
ab kahaan hai bikhar gaya kab ka

वो ज़माना गुज़र गया कब का
था जो दीवाना मर गया कब का

ढूँढता था जो इक नई दुनिया
लूट के अपने घर गया कब का

वो जो लाया था हम को दरिया तक
पार अकेले उतर गया कब का

उस का जो हाल है वही जाने
अपना तो ज़ख़्म भर गया कब का

ख़्वाब-दर-ख़्वाब था जो शीराज़ा
अब कहाँ है बिखर गया कब का

- Javed Akhtar
42 Likes

Dariya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Dariya Shayari Shayari