yaqeen ka agar koi bhi silsila nahin raha | यक़ीन का अगर कोई भी सिलसिला नहीं रहा - Javed Akhtar

yaqeen ka agar koi bhi silsila nahin raha
to shukr kijie ki ab koi gila nahin raha

na hijr hai na vasl hai ab is ko koi kya kahe
ki phool shaakh par to hai magar khila nahin raha

khazana tum na paaye to gareeb jaise ho gaye
palak pe ab koi bhi moti jhilmila nahin raha

badal gai hai zindagi badal gaye hain log bhi
khuloos ka jo tha kabhi vo ab sila nahin raha

jo dushmani bakheel se hui to itni khair hai
ki zahar us ke paas hai magar pila nahin raha

यक़ीन का अगर कोई भी सिलसिला नहीं रहा
तो शुक्र कीजिए कि अब कोई गिला नहीं रहा

न हिज्र है न वस्ल है अब इस को कोई क्या कहे
कि फूल शाख़ पर तो है मगर खिला नहीं रहा

ख़ज़ाना तुम न पाए तो ग़रीब जैसे हो गए
पलक पे अब कोई भी मोती झिलमिला नहीं रहा

बदल गई है ज़िंदगी बदल गए हैं लोग भी
ख़ुलूस का जो था कभी वो अब सिला नहीं रहा

जो दुश्मनी बख़ील से हुई तो इतनी ख़ैर है
कि ज़हर उस के पास है मगर पिला नहीं रहा

- Javed Akhtar
1 Like

Muflisi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Muflisi Shayari Shayari