hamaare dil mein ab talkhi nahin hai | हमारे दिल में अब तल्ख़ी नहीं है - Javed Akhtar

hamaare dil mein ab talkhi nahin hai
magar vo baat pehle si nahin hai

mujhe mayus bhi karti nahin hai
yahi aadat tiri achhi nahin hai

bahut se faaede hain maslahat mein
magar dil ki to ye marzi nahin hai

har ik ki dastaan sunte hain jaise
kabhi ham ne mohabbat ki nahin hai

hai ik darwaaze bin deewar-e-duniya
mafar gham se yahan koi nahin hai

हमारे दिल में अब तल्ख़ी नहीं है
मगर वो बात पहले सी नहीं है

मुझे मायूस भी करती नहीं है
यही आदत तिरी अच्छी नहीं है

बहुत से फ़ाएदे हैं मस्लहत में
मगर दिल की तो ये मर्ज़ी नहीं है

हर इक की दास्ताँ सुनते हैं जैसे
कभी हम ने मोहब्बत की नहीं है

है इक दरवाज़े बिन दीवार-ए-दुनिया
मफ़र ग़म से यहाँ कोई नहीं है

- Javed Akhtar
2 Likes

Gham Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Javed Akhtar

As you were reading Shayari by Javed Akhtar

Similar Writers

our suggestion based on Javed Akhtar

Similar Moods

As you were reading Gham Shayari Shayari