itna to zindagi mein kisi ke khalal pade | इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े - Kaifi Azmi

itna to zindagi mein kisi ke khalal pade
hansne se ho sukoon na rone se kal pade

jis tarah hans raha hoon main pee pee ke garm ashk
yun doosra hanse to kaleja nikal pade

ik tum ki tum ko fikr-e-nasheb-o-faraaz hai
ik hum ki chal pade to bahr-haal chal pade

saaqi sabhi ko hai gham-e-tishna-labi magar
may hai usi ki naam pe jis ke ubal pade

muddat ke ba'ad us ne jo ki lutf ki nigaah
jee khush to ho gaya magar aansu nikal pade

इतना तो ज़िंदगी में किसी के ख़लल पड़े
हँसने से हो सुकून न रोने से कल पड़े

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी पी के गर्म अश्क
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े

इक तुम कि तुम को फ़िक्र-ए-नशेब-ओ-फ़राज़ है
इक हम कि चल पड़े तो बहर-हाल चल पड़े

साक़ी सभी को है ग़म-ए-तिश्ना-लबी मगर
मय है उसी की नाम पे जिस के उबल पड़े

मुद्दत के बा'द उस ने जो की लुत्फ़ की निगाह
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े

- Kaifi Azmi
0 Likes

Maikada Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kaifi Azmi

As you were reading Shayari by Kaifi Azmi

Similar Writers

our suggestion based on Kaifi Azmi

Similar Moods

As you were reading Maikada Shayari Shayari