dil aankhon se aashiq bachaaye hue hain | दिल आँखों से आशिक़ बचाए हुए हैं - Kalb-E-Hussain Nadir

dil aankhon se aashiq bachaaye hue hain
hiran ko vo cheeta banaaye hue hain

nahin likhte hain khat jo ham ko vo qaasid
kisi ke sikhaaye padhaaye hue hain

na khanjar uthega na talwaar un se
vo baazu mere aazmaaye hue hain

agar un ko pooja to kya kufr hoga
ki but bhi khuda ke banaaye hue hain

koi baandho na baandhe ab kuchh na hoga
ki ham rang apna jamaaye hue hain

hazj mein bhi ashaar ai naadir ab padh
ki bazm-e-sukhan mein sab aaye hue hain

दिल आँखों से आशिक़ बचाए हुए हैं
हिरन को वो चीता बनाए हुए हैं

नहीं लिखते हैं ख़त जो हम को वो क़ासिद
किसी के सिखाए पढ़ाए हुए हैं

न ख़ंजर उठेगा न तलवार उन से
वो बाज़ू मिरे आज़माए हुए हैं

अगर उन को पूजा तो क्या कुफ़्र होगा
कि बुत भी ख़ुदा के बनाए हुए हैं

कोई बाँधो न बाँधे अब कुछ न होगा
कि हम रंग अपना जमाए हुए हैं

हज़ज में भी अशआर ऐ 'नादिर' अब पढ़
कि बज़्म-ए-सुख़न में सब आए हुए हैं

- Kalb-E-Hussain Nadir
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kalb-E-Hussain Nadir

As you were reading Shayari by Kalb-E-Hussain Nadir

Similar Writers

our suggestion based on Kalb-E-Hussain Nadir

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari