ai but hain husn mein tiri mashhoor pindaliyaan | ऐ बुत हैं हुस्न में तिरी मशहूर पिंडलियाँ - Kalb-E-Hussain Nadir

ai but hain husn mein tiri mashhoor pindaliyaan
aisi kahaan se laaye pari hoor pindaliyaan

mumkin nahin ki yun to kisi ki nazar pade
khul jaayen neend mein to hain ma'zoor pindaliyaan

bedaariyon mein aayein nazar ye to hai muhaal
makhfi hain waqt-e-khwaab b-dastoor pindaliyaan

taabaan misaal-e-sham'a hain faanoos-e-noor se
har-chand paicho mein hain mastur pindaliyaan

ai naadir un ke husn ki taarif kya likhoon
sham-e-lagan se badh ke hain pur-noor pindaliyaan

ऐ बुत हैं हुस्न में तिरी मशहूर पिंडलियाँ
ऐसी कहाँ से लाए परी हूर पिंडलियाँ

मुमकिन नहीं कि यूँ तो किसी की नज़र पड़े
खुल जाएँ नींद में तो हैं मा'ज़ूर पिंडलियाँ

बेदारियों में आईं नज़र ये तो है मुहाल
मख़्फ़ी हैं वक़्त-ए-ख़्वाब ब-दस्तूर पिंडलियाँ

ताबाँ मिसाल-ए-शम्अ हैं फ़ानूस-ए-नूर से
हर-चंद पाइचों में हैं मस्तूर पिंडलियाँ

ऐ 'नादिर' उन के हुस्न की तारीफ़ क्या लिखूँ
शम-ए-लगन से बढ़ के हैं पुर-नूर पिंडलियाँ

- Kalb-E-Hussain Nadir
0 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kalb-E-Hussain Nadir

As you were reading Shayari by Kalb-E-Hussain Nadir

Similar Writers

our suggestion based on Kalb-E-Hussain Nadir

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari