aapki yaad mein ham jab bhi ghazal kahte hain | आपकी याद में हम जब भी ग़ज़ल कहते हैं - Kumar Vikas

aapki yaad mein ham jab bhi ghazal kahte hain
ye haqeeqat hai ki phir achhi ghazal kahte hain

ishq kii baat hai samjhenge faqat deewane
ham na hindi kii na urdu kii ghazal kahte hain

sirf ustaad ke haathon nahin iski asmat
kuchh naye log bhi ab achhi ghazal kahte hain

apne purkhon kii na jaageer samajh sun bhai
ham bhi shayar hain miyaan ham bhi ghazal kahte hain

ham vikaas aise hain saani nahin jinka koii
jab bhi kahte hain to meaari ghazal kahte hain

आपकी याद में हम जब भी ग़ज़ल कहते हैं
ये हक़ीक़त है कि फिर अच्छी ग़ज़ल कहते हैं

इश्क़ की बात है समझेंगे फ़क़त दीवाने
हम न हिंदी की न उर्दू की ग़ज़ल कहते हैं

सिर्फ़ उस्ताद के हाथों नहीं इसकी अस्मत
कुछ नए लोग भी अब अच्छी ग़ज़ल कहते हैं

अपने पुरखों की न जागीर समझ सुन भाई
हम भी शायर हैं मियाँ हम भी ग़ज़ल कहते हैं

हम विकास ऐसे हैं सानी नहीं जिनका कोई
जब भी कहते हैं तो मेआरी ग़ज़ल कहते हैं

- Kumar Vikas
1 Like

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kumar Vikas

As you were reading Shayari by Kumar Vikas

Similar Writers

our suggestion based on Kumar Vikas

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari