alag dhaare mein bahte hain yahin tak saath tha apna | अलग धारे में बहते हैं, यहीं तक साथ था अपना - Kumar Vikas

alag dhaare mein bahte hain yahin tak saath tha apna
chalo kashti badalte hain yahin tak saath tha apna

yahi taqdeer ka likkha yahi hai waqt ki marzi
yahi haalaat kahte hain yahin tak saath tha apna

juda hone pe ashkon ki rivaayat tod di jaaye
chalo hanskar bichhadte hain yahin tak saath tha apna

tumhaari ik nayi duniya tumhein aawaaz deti hai
suno ab ham nikalte hain yahin tak saath tha apna

safar bhi door ka hai shaam bhi dhalne ko aayi hai
ijaazat do ki chalte hain yahin tak saath tha apna

अलग धारे में बहते हैं, यहीं तक साथ था अपना
चलो कश्ती बदलते हैं, यहीं तक साथ था अपना

यही तक़दीर का लिक्खा, यही है वक़्त की मर्ज़ी
यही हालात कहते हैं, यहीं तक साथ था अपना

जुदा होने पे अश्कों की रवायत तोड़ दी जाए
चलो हंसकर बिछड़ते हैं, यहीं तक साथ था अपना

तुम्हारी इक नयी दुनिया तुम्हें आवाज़ देती है
सुनो अब हम निकलते हैं, यहीं तक साथ था अपना

सफ़र भी दूर का है शाम भी ढलने को आयी है
इजाज़त दो कि चलते हैं, यहीं तक साथ था अपना

- Kumar Vikas
4 Likes

Waqt Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kumar Vikas

As you were reading Shayari by Kumar Vikas

Similar Writers

our suggestion based on Kumar Vikas

Similar Moods

As you were reading Waqt Shayari Shayari