tumne kaha kharab chalo ham kharab hain | तुमने कहा ख़राब चलो हम ख़राब हैं - Kumar Vikas

tumne kaha kharab chalo ham kharab hain
den aur kya jawaab chalo ham kharab hain

kaisi wafa kahaan kii wafa kaun sii wafa
sab chhod do hisaab chalo ham kharab hain

hamne shareef hone kii qeemat chukaai hai
laao zara sharaab chalo ham kharab hain

jis khoobsurati se zafa kar rahe ho tum
vo fan hai laajwaab chalo ham kharab hain

तुमने कहा ख़राब चलो हम ख़राब हैं
दें और क्या जवाब चलो हम ख़राब हैं

कैसी वफ़ा कहाँ की वफ़ा कौन सी वफ़ा
सब छोड़ दो हिसाब चलो हम ख़राब हैं

हमने शरीफ़ होने की क़ीमत चुकाई है
लाओ ज़रा शराब चलो हम ख़राब हैं

जिस ख़ूबसूरती से ज़फा कर रहे हो तुम
वो फ़न है लाजवाब चलो हम ख़राब हैं

- Kumar Vikas
1 Like

Sharaab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Kumar Vikas

As you were reading Shayari by Kumar Vikas

Similar Writers

our suggestion based on Kumar Vikas

Similar Moods

As you were reading Sharaab Shayari Shayari