dil jab se tire hijr mein beemaar pada hai | दिल जब से तिरे हिज्र में बीमार पड़ा है - Lala Madhav Ram Jauhar

dil jab se tire hijr mein beemaar pada hai
jeene se khafa jaan se be-zaar pada hai

sauda na bana gesoo-e-jaanaan se to kya gham
le lenge kahi aur se bazaar pada hai

parhez tap-e-hijr se hai tujh ko jo ai dil
tu aur bhi aage kabhi beemaar pada hai

farmaiye roke se ruke hain kabhi aashiq
darwaaze pe qufl aap ke sau baar pada hai

main dair o haram ho ke tire kooche mein pahuncha
do manzilon ka fer bas ai yaar pada hai

ki tark-e-mohabbat to liya dard-e-jigar mol
parhez se dil aur bhi beemaar pada hai

tauqeer nahin anjuman-e-khaas mein dil ki
sheesha tire may-khaana mein bekar pada hai

kuchh shaam-e-judaai mein sujhaai nahin deta
parda khird o hosh pe ai yaar pada hai

jauhar kahi bikti hi nahin jins-e-mohabbat
kya qahat wafa ka sar-e-bazaar pada hai

दिल जब से तिरे हिज्र में बीमार पड़ा है
जीने से ख़फ़ा जान से बे-ज़ार पड़ा है

सौदा न बना गेसू-ए-जानाँ से तो क्या ग़म
ले लेंगे कहीं और से बाज़ार पड़ा है

परहेज़ तप-ए-हिज्र से है तुझ को जो ऐ दिल
तू और भी आगे कभी बीमार पड़ा है

फ़रमाइए रोके से रुके हैं कभी आशिक़
दरवाज़े पे क़ुफ़्ल आप के सौ बार पड़ा है

मैं दैर ओ हरम हो के तिरे कूचे में पहुँचा
दो मंज़िलों का फेर बस ऐ यार पड़ा है

की तर्क-ए-मोहब्बत तो लिया दर्द-ए-जिगर मोल
परहेज़ से दिल और भी बीमार पड़ा है

तौक़ीर नहीं अंजुमन-ए-ख़ास में दिल की
शीशा तिरे मय-ख़ाना में बेकार पड़ा है

कुछ शाम-ए-जुदाई में सुझाई नहीं देता
पर्दा ख़िरद ओ होश पे ऐ यार पड़ा है

'जौहर' कहीं बिकती ही नहीं जिंस-ए-मोहब्बत
क्या क़हत वफ़ा का सर-ए-बाज़ार पड़ा है

- Lala Madhav Ram Jauhar
1 Like

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Lala Madhav Ram Jauhar

As you were reading Shayari by Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Writers

our suggestion based on Lala Madhav Ram Jauhar

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari