khaamoshi ko sada mein rakha gaya | ख़ामुशी को सदा में रक्खा गया - Liaqat Jafri

khaamoshi ko sada mein rakha gaya
ek jaadu hawa mein rakha gaya

chaak-e-jaan se utaar kar kuzaa
sahn-e-aab-o-hawaa mein rakha gaya

phir murattab kiye gaye jazbaat
ishq ko ibtida mein rakha gaya

sang-e-buniyaad thi khalaon ki
ek patthar hawa mein rakha gaya

ek konpal sajaai achkan par
ek khanjar qaba mein rakha gaya

ek dariya utha ke laaya gaya
dasht-e-karb-o-bala mein rakha gaya

mushtar ki gaeein duaaein bahut
aur asar bad-dua mein rakha gaya

mujh ko takhleeq se guzaara gaya
aur khuda ki raza mein rakha gaya

inkishaafaat ho chuke saare
mojzze ko ana mein rakha gaya

ख़ामुशी को सदा में रक्खा गया
एक जादू हवा में रक्खा गया

चाक-ए-जाँ से उतार कर कूज़ा
सहन-ए-आब-ओ-हवा में रक्खा गया

फिर मुरत्तब किए गए जज़्बात
इश्क़ को इब्तिदा में रक्खा गया

संग-ए-बुनियाद थी ख़लाओं की
एक पत्थर हवा में रक्खा गया

एक कोंपल सजाई अचकन पर
एक ख़ंजर क़बा में रक्खा गया

एक दरिया उठा के लाया गया
दश्त-ए-कर्ब-ओ-बला में रक्खा गया

मुश्तहर की गईं दुआएँ बहुत
और असर बद-दुआ में रक्खा गया

मुझ को तख़्लीक़ से गुज़ारा गया
और ख़ुदा की रज़ा में रक्खा गया

इन्किशाफ़ात हो चुके सारे
मोजज़े को अना में रक्खा गया

- Liaqat Jafri
0 Likes

Jazbaat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Liaqat Jafri

As you were reading Shayari by Liaqat Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Liaqat Jafri

Similar Moods

As you were reading Jazbaat Shayari Shayari