tum apne aap par ehsaan kyun nahin karte | तुम अपने आप पर एहसान क्यूँ नहीं करते - Madan Mohan Danish

tum apne aap par ehsaan kyun nahin karte
kiya hai ishq to elaan kyun nahin karte

sajaaye firte ho mehfil na jaane kis kis ki
kabhi parindon ko mehmaan kyun nahin karte

vo dekhte hi nahin jo hai manzaron se alag
kabhi nigaah ko hairaan kyun nahin karte

puraani samton mein chalne ki sab ko aadat hai
nayi dishaon ka vo dhyaan kyun nahin karte

bas ik charaagh ke bujhne se bujh gaye daanish
tum aandhiyon ko pareshaan kyun nahin karte

तुम अपने आप पर एहसान क्यूँ नहीं करते
किया है इश्क़ तो एलान क्यूँ नहीं करते

सजाए फिरते हो महफ़िल न जाने किस किस की
कभी परिंदों को मेहमान क्यूँ नहीं करते

वो देखते ही नहीं जो है मंज़रों से अलग
कभी निगाह को हैरान क्यूँ नहीं करते

पुरानी सम्तों में चलने की सब को आदत है
नई दिशाओं का वो ध्यान क्यूँ नहीं करते

बस इक चराग़ के बुझने से बुझ गए 'दानिश'
तुम आंधियों को परेशान क्यूँ नहीं करते

- Madan Mohan Danish
7 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Madan Mohan Danish

As you were reading Shayari by Madan Mohan Danish

Similar Writers

our suggestion based on Madan Mohan Danish

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari