aadhi aag aur aadha paani hum dono | आधी आग और आधा पानी हम दोनों - Madan Mohan Danish

aadhi aag aur aadha paani hum dono
jaltee-bujhtee ek kahaani hum dono

mandir masjid girija-ghar aur gurudwaara
lafz kai hain ek maani hum dono

roop badal kar naam badal kar aate hain
faani ho kar bhi la-faani hum dono

gyaani dhyaani chatur siyaani duniya mein
jeete hain apni nadaani hum dono

aadha aadha baant ke jeete rahte hain
raunaq ho ya ho veeraani hum dono

nazar lage na apni jagmag duniya ko
karte rahte hain nigraani hum dono

khwaabon ka ik nagar basa lete hain roz
aur ban jaate hain sailaani hum dono

tu saawan ki shokh ghatta mein pyaasa ban
chal karte hain kuch man-maani hum dono

ik-dooje ko roz sunaate hain daanish
apni apni raam-kahaani hum dono

आधी आग और आधा पानी हम दोनों
जलती-बुझती एक कहानी हम दोनों

मंदिर मस्जिद गिरिजा-घर और गुरुद्वारा
लफ़्ज़ कई हैं एक मआ'नी हम दोनों

रूप बदल कर नाम बदल कर आते हैं
फ़ानी हो कर भी ला-फ़ानी हम दोनों

ज्ञानी ध्यानी चतुर सियानी दुनिया में
जीते हैं अपनी नादानी हम दोनों

आधा आधा बाँट के जीते रहते हैं
रौनक़ हो या हो वीरानी हम दोनों

नज़र लगे ना अपनी जगमग दुनिया को
करते रहते हैं निगरानी हम दोनों

ख़्वाबों का इक नगर बसा लेते हैं रोज़
और बन जाते हैं सैलानी हम दोनों

तू सावन की शोख़ घटा में प्यासा बन
चल करते हैं कुछ मन-मानी हम दोनों

इक-दूजे को रोज़ सुनाते हैं 'दानिश'
अपनी अपनी राम-कहानी हम दोनों

- Madan Mohan Danish
13 Likes

Charagh Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Madan Mohan Danish

As you were reading Shayari by Madan Mohan Danish

Similar Writers

our suggestion based on Madan Mohan Danish

Similar Moods

As you were reading Charagh Shayari Shayari