aur kya aakhir tujhe ai zindagaani chahiye | और क्या आख़िर तुझे ऐ ज़िंदगानी चाहिए - Madan Mohan Danish

aur kya aakhir tujhe ai zindagaani chahiye
aarzoo kal aag ki thi aaj paani chahiye

ye kahaan ki reet hai jaage koi soye koi
raat sab ki hai to sab ko neend aani chahiye

is ko hansne ke liye to us ko rone ke liye
waqt ki jholi se sab ko ik kahaani chahiye

kyun zaroori hai kisi ke peeche peeche ham chalen
jab safar apna hai to apni rawaani chahiye

kaun pahchaanega daanish ab tujhe kirdaar se
be-muravvat waqt ko taaza nishaani chahiye

और क्या आख़िर तुझे ऐ ज़िंदगानी चाहिए
आरज़ू कल आग की थी आज पानी चाहिए

ये कहाँ की रीत है जागे कोई सोए कोई
रात सब की है तो सब को नींद आनी चाहिए

इस को हँसने के लिए तो उस को रोने के लिए
वक़्त की झोली से सब को इक कहानी चाहिए

क्यूँ ज़रूरी है किसी के पीछे पीछे हम चलें
जब सफ़र अपना है तो अपनी रवानी चाहिए

कौन पहचानेगा 'दानिश' अब तुझे किरदार से
बे-मुरव्वत वक़्त को ताज़ा निशानी चाहिए

- Madan Mohan Danish
12 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Madan Mohan Danish

As you were reading Shayari by Madan Mohan Danish

Similar Writers

our suggestion based on Madan Mohan Danish

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari