tera rukh-e-mukhtat quraan hai hamaara | तेरा रुख़-ए-मुख़त्तत क़ुरआन है हमारा - Meer Taqi Meer

tera rukh-e-mukhtat quraan hai hamaara
bosa bhi len to kya hai eimaan hai hamaara

gar hai ye be-qaraari to rah chuka baghal mein
do roz dil hamaara mehmaan hai hamaara

hain is kharab dil se mashhoor shehar-e-khooban
is saari basti mein ghar veeraan hai hamaara

mushkil bahut hai ham sa phir koi haath aana
yun maarna to pyaare aasaan hai hamaara

idrees o khizr o eesa qaateel se ham chhudaaye
un khoon-giriftagan par ehsaan hai hamaara

ham ve hain sun rakho tum mar jaayen ruk ke yakja
kya koocha koocha phirna unwaan hai hamaara

hain said-gah ke meri sayyaad kya na dhadhke
kahte hain said jo hai be-jaan hai hamaara

karte hain baatein kis kis hangaame ki ye zaahid
deewaan-e-hashr goya deewaan hai hamaara

khursheed-roo ka partav aankhon mein roz haiga
yaani ki sharq-ruya daalaan hai hamaara

maahiyyat-e-do-aalam khaati phire hai ghote
yak qatra khoon ye dil toofaan hai hamaara

naale mein apne har shab aate hain ham bhi pinhaan
ghaafil tiri gali mein mindaan hai hamaara

kya khaandaan ka apne tujh se kahein taqaddus
roohul-qudoos ik adnaa darbaan hai hamaara

karta hai kaam vo dil jo aql mein na aave
ghar ka musheer kitna naadaan hai hamaara

jee ja na aah zalim tera hi to hai sab kuchh
kis munh se phir kahein jee qurbaan hai hamaara

banjar zameen dil ki hai meer milk apni
pur-daagh seena mohr-e-farmaan hai hamaara

तेरा रुख़-ए-मुख़त्तत क़ुरआन है हमारा
बोसा भी लें तो क्या है ईमान है हमारा

गर है ये बे-क़रारी तो रह चुका बग़ल में
दो रोज़ दिल हमारा मेहमान है हमारा

हैं इस ख़राब दिल से मशहूर शहर-ए-ख़ूबाँ
इस सारी बस्ती में घर वीरान है हमारा

मुश्किल बहुत है हम सा फिर कोई हाथ आना
यूँ मारना तो प्यारे आसान है हमारा

इदरीस ओ ख़िज़्र ओ ईसा क़ातिल से हम छुड़ाए
उन ख़ूँ-गिरफ़्तगाँ पर एहसान है हमारा

हम वे हैं सुन रखो तुम मर जाएँ रुक के यकजा
क्या कूचा कूचा फिरना उनवान है हमारा

हैं सैद-गह के मेरी सय्याद क्या न धड़के
कहते हैं सैद जो है बे-जान है हमारा

करते हैं बातें किस किस हंगामे की ये ज़ाहिद
दीवान-ए-हश्र गोया दीवान है हमारा

ख़ुर्शीद-रू का परतव आँखों में रोज़ हैगा
यानी कि शर्क़-रूया दालान है हमारा

माहिय्यत-ए-दो-आलम खाती फिरे है ग़ोते
यक क़तरा ख़ून ये दिल तूफ़ान है हमारा

नाले में अपने हर शब आते हैं हम भी पिन्हाँ
ग़ाफ़िल तिरी गली में मिंदान है हमारा

क्या ख़ानदाँ का अपने तुझ से कहें तक़द्दुस
रूहुल-क़ुदूस इक अदना दरबान है हमारा

करता है काम वो दिल जो अक़्ल में न आवे
घर का मुशीर कितना नादान है हमारा

जी जा न आह ज़ालिम तेरा ही तो है सब कुछ
किस मुँह से फिर कहें जी क़ुर्बान है हमारा

बंजर ज़मीन दिल की है 'मीर' मिल्क अपनी
पुर-दाग़ सीना मोहर-ए-फ़रमान है हमारा

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Mehman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Mehman Shayari Shayari