kya museebat-zada dil maail-e-aazaar na tha | क्या मुसीबत-ज़दा दिल माइल-ए-आज़ार न था - Meer Taqi Meer

kya museebat-zada dil maail-e-aazaar na tha
kaun se dard-o-sitam ka ye taraf-daar na tha

aadam-e-khaaki se aalam ko jila hai warna
aaina tha ye wale qaabil-e-deedaar na tha

dhoop mein jaltee hain gurbat vatanon ki laashein
tere kooche mein magar saaya-e-deewar na tha

sad gulistaan ta-yak baal the us ke jab tak
taair-e-jaan qafas-e-tan ka girftaar na tha

haif samjha hi na vo qaateel naadaan warna
be-gunah maarnay qaabil ye gunahgaar na tha

ishq ka jazb hua baa'is-e-sauda warna
yusuf-e-misr zulekha ka khareedaar na tha

narm-tar mom se bhi ham ko koi deti qaza
sang chaati ka to ye dil hamein darkaar na tha

raat hairaan hoon kuchh chup hi mujhe lag gai meer
dard pinhaan the bahut par lab-e-izhaar na tha

क्या मुसीबत-ज़दा दिल माइल-ए-आज़ार न था
कौन से दर्द-ओ-सितम का ये तरफ़-दार न था

आदम-ए-ख़ाकी से आलम को जिला है वर्ना
आईना था ये वले क़ाबिल-ए-दीदार न था

धूप में जलती हैं ग़ुर्बत वतनों की लाशें
तेरे कूचे में मगर साया-ए-दीवार न था

सद गुलिस्ताँ ता-यक बाल थे उस के जब तक
ताइर-ए-जाँ क़फ़स-ए-तन का गिरफ़्तार न था

हैफ़ समझा ही न वो क़ातिल नादाँ वर्ना
बे-गुनह मारने क़ाबिल ये गुनहगार न था

इश्क़ का जज़्ब हुआ बाइ'स-ए-सौदा वर्ना
यूसुफ़-ए-मिस्र ज़ुलेख़ा का ख़रीदार न था

नर्म-तर मोम से भी हम को कोई देती क़ज़ा
संग छाती का तो ये दिल हमें दरकार न था

रात हैरान हूँ कुछ चुप ही मुझे लग गई 'मीर'
दर्द पिन्हाँ थे बहुत पर लब-ए-इज़हार न था

- Meer Taqi Meer
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meer Taqi Meer

As you were reading Shayari by Meer Taqi Meer

Similar Writers

our suggestion based on Meer Taqi Meer

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari