jo saamne toofaan ke aaya nahin karte | जो सामने तूफ़ान के आया नहीं करते - Meharban Amrohvi

jo saamne toofaan ke aaya nahin karte
ham aise charaagon ko jalaya nahin karte

jo sun ke uda dete hon har baat hasi mein
ahvaal unhen dil ke sunaaya nahin karte

kis tarah fale-foole mohabbat ye hamaari
vo rooth to jaate hain manaaya nahin karte

rakhte hain mobile mein mohabbat ki nishaani
ab phool kitaabon mein chhupaaya nahin karte

taadaad sitaaron ki ziyaada to hai lekin
suraj ke muqaabil kabhi aaya nahin karte

rizwan bane baithe hain vo log yahan par
jo pair kabhi maa ke dabaya nahin karte

kahte hain bade boodhe ki ghat jaati hain izzat
har roz kisi ke yahan jaaya nahin karte

जो सामने तूफ़ान के आया नहीं करते
हम ऐसे चराग़ों को जलाया नहीं करते

जो सुन के उड़ा देते हों हर बात हँसी में
अहवाल उन्हें दिल के सुनाया नहीं करते

किस तरह फले-फूले मोहब्बत ये हमारी
वो रूठ तो जाते हैं मनाया नहीं करते

रखते हैं मोबाइल में मोहब्बत की निशानी
अब फूल किताबों में छुपाया नहीं करते

तादाद सितारों की ज़ियादा तो है लेकिन
सूरज के मुक़ाबिल कभी आया नहीं करते

रिज़वान बने बैठे हैं वो लोग यहाँ पर
जो पैर कभी माँ के दबाया नहीं करते

कहते हैं बड़े बूढे की घट जाती हैं इज़्ज़त
हर रोज़ किसी के यहाँ जाया नहीं करते

- Meharban Amrohvi
6 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Meharban Amrohvi

As you were reading Shayari by Meharban Amrohvi

Similar Writers

our suggestion based on Meharban Amrohvi

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari