ishq mein daan karna padta hai | इश्क में दान करना पड़ता है - Mehshar Afridi

ishq mein daan karna padta hai
jaan ko halkaan karna padta hai

tajurba muft mein nahin milta
pehle nuksaan karna padta hai

uski be lafz guftagoo ke liye
aankh ko kaan karna padta hai

phir udaasi ke bhi takaaje hai
ghar ko veeraan karna padta hai

इश्क में दान करना पड़ता है
जाँ को हलकान करना पड़ता है

तजुर्बा मुफ्त में नहीं मिलता
पहले नुकसान करना पड़ता है

उसकी बे लफ्ज गुफ्तगू के लिए
आँख को कान करना पड़ता है

फिर उदासी के भी तकाजे है
घर को वीरान करना पड़ता है

- Mehshar Afridi
26 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mehshar Afridi

As you were reading Shayari by Mehshar Afridi

Similar Writers

our suggestion based on Mehshar Afridi

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari