main dil pe jabr karunga tujhe bhula doonga | मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा - Mohsin Naqvi

main dil pe jabr karunga tujhe bhula doonga
maroonga khud bhi tujhe bhi kaddi saza doonga

ye teergi mere ghar ka hi kyun muqaddar ho
main tere shehar ke saare diye bujha doonga

hawa ka haath bataaunga har tabaahi mein
hare shajar se parinde main khud uda doonga

wafa karunga kisi sogwaar chehre se
puraani qabr pe kitaba naya saja doonga

isee khayal mein guzri hai shaam-e-dard akshar
ki dard had se badhega to muskuraa doonga

tu aasmaan ki soorat hai gar padega kabhi
zameen hoon main bhi magar tujh ko aasraa doonga

badha rahi hain mere dukh nishaaniyaan teri
main tere khat tiri tasveer tak jala doonga

bahut dinon se mera dil udaas hai mohsin
is aaine ko koi aks ab naya doonga

मैं दिल पे जब्र करूँगा तुझे भुला दूँगा
मरूँगा ख़ुद भी तुझे भी कड़ी सज़ा दूँगा

ये तीरगी मिरे घर का ही क्यूँ मुक़द्दर हो
मैं तेरे शहर के सारे दिए बुझा दूँगा

हवा का हाथ बटाऊँगा हर तबाही में
हरे शजर से परिंदे मैं ख़ुद उड़ा दूँगा

वफ़ा करूँगा किसी सोगवार चेहरे से
पुरानी क़ब्र पे कतबा नया सजा दूँगा

इसी ख़याल में गुज़री है शाम-ए-दर्द अक्सर
कि दर्द हद से बढ़ेगा तो मुस्कुरा दूँगा

तू आसमान की सूरत है गर पड़ेगा कभी
ज़मीं हूँ मैं भी मगर तुझ को आसरा दूँगा

बढ़ा रही हैं मिरे दुख निशानियाँ तेरी
मैं तेरे ख़त तिरी तस्वीर तक जला दूँगा

बहुत दिनों से मिरा दिल उदास है 'मोहसिन'
इस आइने को कोई अक्स अब नया दूँगा

- Mohsin Naqvi
6 Likes

Crime Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mohsin Naqvi

As you were reading Shayari by Mohsin Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Mohsin Naqvi

Similar Moods

As you were reading Crime Shayari Shayari