baadshaahon ko sikhaaya hai qalander hona | बादशाहों को सिखाया है क़लंदर होना - Munawwar Rana

baadshaahon ko sikhaaya hai qalander hona
aap aasaan samjhte hain munavvar hona

ek aansu bhi hukoomat ke liye khatra hai
tum ne dekha nahin aankhon ka samundar hona

sirf bacchon ki mohabbat ne qadam rok liye
warna aasaan tha mere liye be-ghar hona

ham ko ma'aloom hai shohrat ki bulandi ham ne
qabr ki mitti ka dekha hai barabar hona

is ko qismat ki kharaabi hi kaha jaayega
aap ka shehar mein aana mera baahar hona

sochta hoon to kahaani ki tarah lagta hai
raaste se mera takna tira chat par hona

mujh ko qismat hi pahunchne nahin deti warna
ek e'zaaz hai us dar ka gadaagar hona

sirf taarikh bataane ke liye zinda hoon
ab mera ghar mein bhi hona hai calendar hona

बादशाहों को सिखाया है क़लंदर होना
आप आसान समझते हैं मुनव्वर होना

एक आँसू भी हुकूमत के लिए ख़तरा है
तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना

सिर्फ़ बच्चों की मोहब्बत ने क़दम रोक लिए
वर्ना आसान था मेरे लिए बे-घर होना

हम को मा'लूम है शोहरत की बुलंदी हम ने
क़ब्र की मिट्टी का देखा है बराबर होना

इस को क़िस्मत की ख़राबी ही कहा जाएगा
आप का शहर में आना मिरा बाहर होना

सोचता हूँ तो कहानी की तरह लगता है
रास्ते से मिरा तकना तिरा छत पर होना

मुझ को क़िस्मत ही पहुँचने नहीं देती वर्ना
एक ए'ज़ाज़ है उस दर का गदागर होना

सिर्फ़ तारीख़ बताने के लिए ज़िंदा हूँ
अब मिरा घर में भी होना है कैलेंडर होना

- Munawwar Rana
10 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari