dohraa raha hoon baat puraani kahi hui | दोहरा रहा हूँ बात पुरानी कही हुई - Munawwar Rana

dohraa raha hoon baat puraani kahi hui
tasveer tere ghar mein thi meri lagi hui

in bad-naseeb aankhon ne dekhi hai baar baar
deewaar mein gareeb ki khwaahish chuni hui

taaza ghazal zaroori hai mehfil ke vaaste
sunta nahin hai koi dobara sooni hui

muddat se koi doosra rehta hai ham nahin
darwaaze par hamaari hai takhti lagi hui

jab tak hai dor haath mein tab tak ka khel hai
dekhi to hongi tum ne patange kati hui

jis ki judaai ne mujhe shaair bana diya
padhta hoon main ghazal bhi usi ki likhi hui

lagta hai jaise ghar mein nahin hoon main qaid hoon
milti hain rotiyaan bhi jahaan par gini hui

saanson ke aane jaane pe chalta hai kaarobaar
chhoota nahin hai koi bhi haandi jali hui

ye zakham ka nishaan hai jaayega der se
chhutti nahin hai jaldi se mehndi lagi hui

दोहरा रहा हूँ बात पुरानी कही हुई
तस्वीर तेरे घर में थी मेरी लगी हुई

इन बद-नसीब आँखों ने देखी है बार बार
दीवार में ग़रीब की ख़्वाहिश चुनी हुई

ताज़ा ग़ज़ल ज़रूरी है महफ़िल के वास्ते
सुनता नहीं है कोई दोबारा सुनी हुई

मुद्दत से कोई दूसरा रहता है हम नहीं
दरवाज़े पर हमारी है तख़्ती लगी हुई

जब तक है डोर हाथ में तब तक का खेल है
देखी तो होंगी तुम ने पतंगें कटी हुई

जिस की जुदाई ने मुझे शाइर बना दिया
पढ़ता हूँ मैं ग़ज़ल भी उसी की लिखी हुई

लगता है जैसे घर में नहीं हूँ मैं क़ैद हूँ
मिलती हैं रोटियाँ भी जहाँ पर गिनी हुई

साँसों के आने जाने पे चलता है कारोबार
छूता नहीं है कोई भी हाँडी जली हुई

ये ज़ख़्म का निशान है जाएगा देर से
छुटती नहीं है जल्दी से मेहंदी लगी हुई

- Munawwar Rana
3 Likes

Crime Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Munawwar Rana

As you were reading Shayari by Munawwar Rana

Similar Writers

our suggestion based on Munawwar Rana

Similar Moods

As you were reading Crime Shayari Shayari