barf bekar mein pighal gai hai | बर्फ़ बेकार में पिघल गई है - Nadir Ariz

barf bekar mein pighal gai hai
is muhabbat ki umr dhal gai hai

uska ghar dekhne ke chakkar mein
mere qasbe ki bas nikal gai hai

ek jhoota bayaan dene par
do qabeelon mein jang tal gai hai

mera hota hua nahin hua vo
gend pakadi magar fisal gai hai

haadsa haath mal raha hoga
car ultati hui sambhal gai hai

बर्फ़ बेकार में पिघल गई है
इस मुहब्बत की उम्र ढल गई है

उसका घर देखने के चक्कर में
मेरे क़स्बे की बस निकल गई है

एक झूठा बयान देने पर
दो क़बीलों में जंग टल गई है

मेरा होता हुआ नहीं हुआ वो
गेंद पकड़ी मगर फिसल गई है

हादसा हाथ मल रहा होगा
कार उलटती हुई सँभल गई है

- Nadir Ariz
6 Likes

War Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nadir Ariz

As you were reading Shayari by Nadir Ariz

Similar Writers

our suggestion based on Nadir Ariz

Similar Moods

As you were reading War Shayari Shayari