phir use khwaab mein dekha hai khuda khair kare | फिर उसे ख़्वाब में देखा है ख़ुदा ख़ैर करे - Nami Nadri

phir use khwaab mein dekha hai khuda khair kare
vo mere zehan pe chaaya hai khuda khair kare

us ne phir pyaar jataaya hai khuda khair kare
koi to nek iraada hai khuda khair kare

har ghadi ek dhamaaka hai khuda khair kare
har nafs khoon ka pyaasa hai khuda khair kare

ye kisi ki bhi hui hai to bataaye koi
zindagi ek chhalaava hai khuda khair kare

masnooi chehra lagaaye hue hai har koi
ab dikhaava hi dikhaava hai khuda khair kare

ghaliban zinda jalaya gaya hoga koi
chauk mein kaisa dhuaan sa hai khuda khair kare

phir koi gul vo khilaayega yaqeenan yaaro
muskurata hua aaya hai khuda khair kare

ham ne jis shakhs pe ye zeest nichhawar kar di
ab wahi aankhen dikhaata hai khuda khair kare

shikwa sanji ka zamaana nahin ye ai naama
waqt naazuk hai budhaapa hai khuda khair kare

फिर उसे ख़्वाब में देखा है ख़ुदा ख़ैर करे
वो मिरे ज़ेहन पे छाया है ख़ुदा ख़ैर करे

उस ने फिर प्यार जताया है ख़ुदा ख़ैर करे
कोई तो नेक इरादा है ख़ुदा ख़ैर करे

हर घड़ी एक धमाका है ख़ुदा ख़ैर करे
हर नफ़स ख़ून का प्यासा है ख़ुदा ख़ैर करे

ये किसी की भी हुई है तो बताए कोई
ज़िंदगी एक छलावा है ख़ुदा ख़ैर करे

मसनूई चेहरा लगाए हुए है हर कोई
अब दिखावा ही दिखावा है ख़ुदा ख़ैर करे

ग़ालिबन ज़िंदा जलाया गया होगा कोई
चौक में कैसा धुआँ सा है ख़ुदा ख़ैर करे

फिर कोई गुल वो खिलाएगा यक़ीनन यारो
मुस्कुराता हुआ आया है ख़ुदा ख़ैर करे

हम ने जिस शख़्स पे ये ज़ीस्त निछावर कर दी
अब वही आँखें दिखाता है ख़ुदा ख़ैर करे

शिकवा संजी का ज़माना नहीं ये ऐ नामा
वक़्त नाज़ुक है बुढ़ापा है ख़ुदा ख़ैर करे

- Nami Nadri
0 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nami Nadri

As you were reading Shayari by Nami Nadri

Similar Writers

our suggestion based on Nami Nadri

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari