talash kar na zameen aasmaan se baahar | तलाश कर न ज़मीं आसमान से बाहर - Nida Fazli

talash kar na zameen aasmaan se baahar
nahin hai raah koi is makaan se baahar

bas ek do hi qadam aur the safar waale
thakaan dekh na paai thakaan se baahar

nisaab darja-b-darja yun hi badalta hai
hua na koi bhi is imtihaan se baahar

usi ki justuju akshar udaas karti hai
vo ik jahaan jo hai har jahaan se baahar

namaaziyo se kaho dekhen chaand-sooraj ko
nikal rahe hain mu'azzin azaan se baahar

तलाश कर न ज़मीं आसमान से बाहर
नहीं है राह कोई इस मकान से बाहर

बस एक दो ही क़दम और थे सफ़र वाले
थकान देख न पाई थकान से बाहर

निसाब दर्जा-ब-दर्जा यूँ ही बदलता है
हुआ न कोई भी इस इम्तिहान से बाहर

उसी की जुस्तुजू अक्सर उदास करती है
वो इक जहाँ जो है हर जहान से बाहर

नमाज़ियों से कहो देखें चाँद-सूरज को
निकल रहे हैं मुअज़्ज़िन अज़ान से बाहर

- Nida Fazli
1 Like

Khafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Khafa Shayari Shayari