man bairagi tan anuraagi qadam qadam dushwaari hai | मन बै-रागी तन अनूरागी क़दम क़दम दुश्वारी है - Nida Fazli

man bairagi tan anuraagi qadam qadam dushwaari hai
jeevan jeena sahal na jaano bahut badi fankaari hai

auron jaise ho kar bhi ham ba-izzat hain basti mein
kuchh logon ka seedha-pan hai kuchh apni ayyaari hai

jab jab mausam jhooma ham ne kapde faade shor kiya
har mausam shaista rahna kori duniyadari hai

aib nahin hai is mein koi laal-paree na phool-kali
ye mat poocho vo achha hai ya achhi naadaari hai

jo chehra dekha vo toda nagar nagar veeraan kiye
pehle auron se na-khush the ab khud se be-zaari hai

मन बै-रागी तन अनूरागी क़दम क़दम दुश्वारी है
जीवन जीना सहल न जानो बहुत बड़ी फ़नकारी है

औरों जैसे हो कर भी हम बा-इज़्ज़त हैं बस्ती में
कुछ लोगों का सीधा-पन है कुछ अपनी अय्यारी है

जब जब मौसम झूमा हम ने कपड़े फाड़े शोर किया
हर मौसम शाइस्ता रहना कोरी दुनिया-दारी है

ऐब नहीं है इस में कोई लाल-परी न फूल-कली
ये मत पूछो वो अच्छा है या अच्छी नादारी है

जो चेहरा देखा वो तोड़ा नगर नगर वीरान किए
पहले औरों से ना-ख़ुश थे अब ख़ुद से बे-ज़ारी है

- Nida Fazli
0 Likes

Chehra Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Nida Fazli

As you were reading Shayari by Nida Fazli

Similar Writers

our suggestion based on Nida Fazli

Similar Moods

As you were reading Chehra Shayari Shayari