khayal-o-khwaab hui hain mohabbatein kaisi | ख़याल-ओ-ख़्वाब हुई हैं मोहब्बतें कैसी - Obaidullah Aleem

khayal-o-khwaab hui hain mohabbatein kaisi
lahu mein naach rahi hain ye vahshatein kaisi

na shab ko chaand hi achha na din ko mehr achha
ye ham pe beet rahi hain qayaamaatein kaisi

vo saath tha to khuda bhi tha meherbaan kya kya
bichhad gaya to hui hain adaavaten kaisi

azaab jin ka tabassum savaab jin ki nigaah
khinchi hui hain pas-e-jaan ye sooraten kaisi

hawa ke dosh pe rakhe hue charaagh hain ham
jo bujh gaye to hawa se shikaayaten kaisi

jo be-khabar koi guzra to ye sada de di
main sang-e-raah hoon mujh par inaayaten kaisi

nahin ki husn hi nairangiyon mein taq nahin
junoon bhi khel raha hai siyaasaten kaisi

na sahabaan-e-junoon hain na ahl-e-kashf-o-kamaal
hamaare ahad mein aayein kasaafaten kaisi

jo abr hai wahi ab sang-o-khisht laata hai
fazaa ye ho to dilon mein nazaakatein kaisi

ye daur-e-be-hunraan hai bacha rakho khud ko
yahan sadaqatein kaisi karaamaatein kaisi

ख़याल-ओ-ख़्वाब हुई हैं मोहब्बतें कैसी
लहू में नाच रही हैं ये वहशतें कैसी

न शब को चाँद ही अच्छा न दिन को मेहर अच्छा
ये हम पे बीत रही हैं क़यामतें कैसी

वो साथ था तो ख़ुदा भी था मेहरबाँ क्या क्या
बिछड़ गया तो हुई हैं अदावतें कैसी

अज़ाब जिन का तबस्सुम सवाब जिन की निगाह
खिंची हुई हैं पस-ए-जाँ ये सूरतें कैसी

हवा के दोष पे रक्खे हुए चराग़ हैं हम
जो बुझ गए तो हवा से शिकायतें कैसी

जो बे-ख़बर कोई गुज़रा तो ये सदा दे दी
मैं संग-ए-राह हूँ मुझ पर इनायतें कैसी

नहीं कि हुस्न ही नैरंगियों में ताक़ नहीं
जुनूँ भी खेल रहा है सियासतें कैसी

न साहबान-ए-जुनूँ हैं न अहल-ए-कश्फ़-ओ-कमाल
हमारे अहद में आईं कसाफ़तें कैसी

जो अब्र है वही अब संग-ओ-ख़िश्त लाता है
फ़ज़ा ये हो तो दिलों में नज़ाकतें कैसी

ये दौर-ए-बे-हुनराँ है बचा रखो ख़ुद को
यहाँ सदाक़तें कैसी करामातें कैसी

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari