sukhun mein sahal nahin jaan nikaal kar rakhna | सुख़न में सहल नहीं जाँ निकाल कर रखना - Obaidullah Aleem

sukhun mein sahal nahin jaan nikaal kar rakhna
ye zindagi hai hamaari sanbhaal kar rakhna

khula ki ishq nahin hai kuchh aur is ke siva
raza-e-yaar jo ho apna haal kar rakhna

usi ka kaam hai farsh-e-zameen bichha dena
usi ka kaam sitaare uchaal kar rakhna

usi ka kaam hai is dukh-bhare zamaane mein
mohabbaton se mujhe maala-maal kar rakhna

bas ek kaifiyat-e-dil mein bolte rahna
bas ek nashshe mein khud ko nihaal kar rakhna

bas ek qaamat-e-zeba ke khwaab mein rahna
basa ek shakhs ko hadd-e-misaal kar rakhna

guzarna husn ki nazzaaragi se pal-bhar ko
phir us ko zaaika-e-la-zawaal kar rakhna

kisi ke bas mein nahin tha kisi ke bas mein nahin
bulandiyon ko sada paayemaal kar rakhna

सुख़न में सहल नहीं जाँ निकाल कर रखना
ये ज़िंदगी है हमारी सँभाल कर रखना

खुला कि इश्क़ नहीं है कुछ और इस के सिवा
रज़ा-ए-यार जो हो अपना हाल कर रखना

उसी का काम है फ़र्श-ए-ज़मीं बिछा देना
उसी का काम सितारे उछाल कर रखना

उसी का काम है इस दुख-भरे ज़माने में
मोहब्बतों से मुझे माला-माल कर रखना

बस एक कैफ़ियत-ए-दिल में बोलते रहना
बस एक नश्शे में ख़ुद को निहाल कर रखना

बस एक क़ामत-ए-ज़ेबा के ख़्वाब में रहना
बसा एक शख़्स को हद्द-ए-मिसाल कर रखना

गुज़रना हुस्न की नज़्ज़ारगी से पल-भर को
फिर उस को ज़ाइक़ा-ए-ला-ज़वाल कर रखना

किसी के बस में नहीं था किसी के बस में नहीं
बुलंदियों को सदा पाएमाल कर रखना

- Obaidullah Aleem
1 Like

Kamar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Kamar Shayari Shayari