koi dhun ho main tire geet hi gaaye jaaun | कोई धुन हो मैं तिरे गीत ही गाए जाऊँ - Obaidullah Aleem

koi dhun ho main tire geet hi gaaye jaaun
dard seene mein uthe shor machaaye jaaun

khwaab ban kar tu barsta rahe shabnam shabnam
aur bas main isee mausam mein nahaaye jaaun

tere hi rang utarte chale jaayen mujh mein
khud ko likkhoon tiri tasveer banaaye jaaun

jis ko milna nahin phir us se mohabbat kaisi
sochta jaaun magar dil mein basaaye jaaun

ab tu us ki hui jis pe mujhe pyaar aata hai
zindagi aa tujhe seene se lagaaye jaaun

yahi chehre mere hone ki gawaahi denge
har naye harf mein jaan apni samaaye jaaun

jaan to cheez hai kya rishta-e-jaan se aage
koi awaaz diye jaaye main aaye jaaun

shaayad is raah pe kuchh aur bhi raahi aayein
dhoop mein chalta rahoon saaye bichhaaye jaaun

ahl-e-dil honge to samjhenge sukhun ko mere
bazm mein aa hi gaya hoon to sunaaye jaaun

कोई धुन हो मैं तिरे गीत ही गाए जाऊँ
दर्द सीने में उठे शोर मचाए जाऊँ

ख़्वाब बन कर तू बरसता रहे शबनम शबनम
और बस मैं इसी मौसम में नहाए जाऊँ

तेरे ही रंग उतरते चले जाएँ मुझ में
ख़ुद को लिक्खूँ तिरी तस्वीर बनाए जाऊँ

जिस को मिलना नहीं फिर उस से मोहब्बत कैसी
सोचता जाऊँ मगर दिल में बसाए जाऊँ

अब तू उस की हुई जिस पे मुझे प्यार आता है
ज़िंदगी आ तुझे सीने से लगाए जाऊँ

यही चेहरे मिरे होने की गवाही देंगे
हर नए हर्फ़ में जाँ अपनी समाए जाऊँ

जान तो चीज़ है क्या रिश्ता-ए-जाँ से आगे
कोई आवाज़ दिए जाए मैं आए जाऊँ

शायद इस राह पे कुछ और भी राही आएँ
धूप में चलता रहूँ साए बिछाए जाऊँ

अहल-ए-दिल होंगे तो समझेंगे सुख़न को मेरे
बज़्म में आ ही गया हूँ तो सुनाए जाऊँ

- Obaidullah Aleem
1 Like

Aah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Aah Shayari Shayari