mere khuda mujhe vo taab-e-nay-nawaai de | मिरे ख़ुदा मुझे वो ताब-ए-नय-नवाई दे - Obaidullah Aleem

mere khuda mujhe vo taab-e-nay-nawaai de
main chup rahoon bhi to naghma mera sunaai de

gada-e-koo-e-sukhan aur tujh se kya maange
yahi ki mamlikat-e-sher ki khudaai de

nigah-e-dehr mein ahl-e-kamaal ham bhi hon
jo likh rahe hain vo duniya agar dikhaai de

chhalk na jaaun kahi main vujood se apne
hunar diya hai to phir zarf-e-kibriyaai de

mujhe kamaal-e-sukhan se nawaazne waale
sama'aton ko bhi ab zaauq-e-aashnaai de

numoo-pazeer hai ye shola-e-nava to ise
har aane waale zamaane ki peshwaai de

koi kare to kahaan tak kare masihaai
ki ek zakham bhare doosra duhaai de

main ek se kisi mausam mein rah nahin saka
kabhi visaal kabhi hijr se rihaai de

jo ek khwaab ka nashsha ho kam to aankhon ko
hazaar khwaab de aur jurat-e-rasaai de

मिरे ख़ुदा मुझे वो ताब-ए-नय-नवाई दे
मैं चुप रहूँ भी तो नग़्मा मिरा सुनाई दे

गदा-ए-कू-ए-सुख़न और तुझ से क्या माँगे
यही कि मम्लिकत-ए-शेर की ख़ुदाई दे

निगाह-ए-दहर में अहल-ए-कमाल हम भी हों
जो लिख रहे हैं वो दुनिया अगर दिखाई दे

छलक न जाऊँ कहीं मैं वजूद से अपने
हुनर दिया है तो फिर ज़र्फ़-ए-किबरियाई दे

मुझे कमाल-ए-सुख़न से नवाज़ने वाले
समाअतों को भी अब ज़ौक़-ए-आश्नाई दे

नुमू-पज़ीर है ये शोला-ए-नवा तो इसे
हर आने वाले ज़माने की पेशवाई दे

कोई करे तो कहाँ तक करे मसीहाई
कि एक ज़ख़्म भरे दूसरा दुहाई दे

मैं एक से किसी मौसम में रह नहीं सकता
कभी विसाल कभी हिज्र से रिहाई दे

जो एक ख़्वाब का नश्शा हो कम तो आँखों को
हज़ार ख़्वाब दे और जुरअत-ए-रसाई दे

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Hijrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Hijrat Shayari Shayari