azaab aaye the aise ki phir na ghar se gaye | अज़ाब आए थे ऐसे कि फिर न घर से गए - Obaidullah Aleem

azaab aaye the aise ki phir na ghar se gaye
vo zinda log mere ghar ke jaise mar se gaye

hazaar tarah ke sadme uthaane waale log
na jaane kya hua ik aan mein bikhar se gaye

bichhadne waalon ka dukh ho to soch lena yahi
ki ik nava-e-pareshaan the raahguzaar se gaye

hazaar raah chale phir vo raahguzaar aayi
ki ik safar mein rahe aur har safar se gaye

kabhi vo jism hua aur kabhi vo rooh tamaam
usi ke khwaab the aankhon mein ham jidhar se gaye

ye haal ho gaya aakhir tiri mohabbat mein
ki chahte hain tujhe aur tiri khabar se gaye

mera hi rang the to kyun na bas rahe mujh mein
mera hi khwaab the to kyun meri nazar se gaye

jo zakham zakhm-e-zabaan bhi hai aur numoo bhi hai
to phir ye vaham hai kaisa ki ham hunar se gaye

अज़ाब आए थे ऐसे कि फिर न घर से गए
वो ज़िंदा लोग मिरे घर के जैसे मर से गए

हज़ार तरह के सदमे उठाने वाले लोग
न जाने क्या हुआ इक आन में बिखर से गए

बिछड़ने वालों का दुख हो तो सोच लेना यही
कि इक नवा-ए-परेशाँ थे रहगुज़र से गए

हज़ार राह चले फिर वो रहगुज़र आई
कि इक सफ़र में रहे और हर सफ़र से गए

कभी वो जिस्म हुआ और कभी वो रूह तमाम
उसी के ख़्वाब थे आँखों में हम जिधर से गए

ये हाल हो गया आख़िर तिरी मोहब्बत में
कि चाहते हैं तुझे और तिरी ख़बर से गए

मिरा ही रंग थे तो क्यूँ न बस रहे मुझ में
मिरा ही ख़्वाब थे तो क्यूँ मिरी नज़र से गए

जो ज़ख़्म ज़ख़्म-ए-ज़बाँ भी है और नुमू भी है
तो फिर ये वहम है कैसा कि हम हुनर से गए

- Obaidullah Aleem
1 Like

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari