ajeeb thi vo ajab tarah chahta tha main | अजीब थी वो अजब तरह चाहता था मैं - Obaidullah Aleem

ajeeb thi vo ajab tarah chahta tha main
vo baat karti thi aur khwaab dekhta tha main

visaal ka ho ki us ke firaq ka mausam
vo lazzaaten theen ki andar se tootaa tha main

chadha hua tha vo nashsha ki kam na hota tha
hazaar baar ubharta tha doobta tha main

badan ka khel theen us ki mohabbatein lekin
jo bhed jism ke the jaan se kholta tha main

phir is tarah kabhi soya na is tarah jaaga
ki rooh neend mein thi aur jaagta tha main

kahaan shikast hui aur kahaan sila paaya
kisi ka ishq kisi se nibahta tha main

main ahl-e-zar ke muqaabil mein tha faqat shaayar
magar main jeet gaya lafz haarta tha main

अजीब थी वो अजब तरह चाहता था मैं
वो बात करती थी और ख़्वाब देखता था मैं

विसाल का हो कि उस के फ़िराक़ का मौसम
वो लज़्ज़तें थीं कि अंदर से टूटता था मैं

चढ़ा हुआ था वो नश्शा कि कम न होता था
हज़ार बार उभरता था डूबता था मैं

बदन का खेल थीं उस की मोहब्बतें लेकिन
जो भेद जिस्म के थे जाँ से खोलता था मैं

फिर इस तरह कभी सोया न इस तरह जागा
कि रूह नींद में थी और जागता था मैं

कहाँ शिकस्त हुई और कहाँ सिला पाया
किसी का इश्क़ किसी से निबाहता था मैं

मैं अहल-ए-ज़र के मुक़ाबिल में था फ़क़त शाएर
मगर मैं जीत गया लफ़्ज़ हारता था मैं

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Badan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Badan Shayari Shayari