kuchh din to baso meri aankhon mein | कुछ दिन तो बसो मिरी आँखों में - Obaidullah Aleem

kuchh din to baso meri aankhon mein
phir khwaab agar ho jaao to kya

koi rang to do mere chehre ko
phir zakham agar mehkaao to kya

jab ham hi na mahke phir sahab
tum baad-e-saba kehlaao to kya

ik aaina tha so toot gaya
ab khud se agar sharmao to kya

tum aas bandhaane waale the
ab tum bhi hamein thukraao to kya

duniya bhi wahi aur tum bhi wahi
phir tum se aas lagao to kya

main tanhaa tha main tanhaa hoon
tum aao to kya na aao to kya

jab dekhne waala koi nahin
bujh jaao to kya gehnaao to kya

ab vaham hai ye duniya is mein
kuchh kho to kya aur paao to kya

hai yun bhi ziyaan aur yun bhi ziyaan
jee jaao to kya mar jaao to kya

कुछ दिन तो बसो मिरी आँखों में
फिर ख़्वाब अगर हो जाओ तो क्या

कोई रंग तो दो मिरे चेहरे को
फिर ज़ख़्म अगर महकाओ तो क्या

जब हम ही न महके फिर साहब
तुम बाद-ए-सबा कहलाओ तो क्या

इक आइना था सो टूट गया
अब ख़ुद से अगर शरमाओ तो क्या

तुम आस बंधाने वाले थे
अब तुम भी हमें ठुकराओ तो क्या

दुनिया भी वही और तुम भी वही
फिर तुम से आस लगाओ तो क्या

मैं तन्हा था मैं तन्हा हूँ
तुम आओ तो क्या न आओ तो क्या

जब देखने वाला कोई नहीं
बुझ जाओ तो क्या गहनाओ तो क्या

अब वहम है ये दुनिया इस में
कुछ खोओ तो क्या और पाओ तो क्या

है यूँ भी ज़ियाँ और यूँ भी ज़ियाँ
जी जाओ तो क्या मर जाओ तो क्या

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Ummeed Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Ummeed Shayari Shayari