aao tum hi karo masihaai | आओ तुम ही करो मसीहाई - Obaidullah Aleem

aao tum hi karo masihaai
ab bahlati nahin hai tanhaai

tum gaye the to saath le jaate
ab ye kis kaam ki hai beenaai

ham ki the lazzat-e-hayaat mein gum
jaan se ik mauj-e-tishnagi aayi

hum-safar khush na ho mohabbat se
jaane ham kis ke hon tamannaai

koi deewaana kehta jaata tha
zindagi ye nahin mere bhaai

awwal-e-ishq mein khabar bhi na thi
izzaten bakhshati hai ruswaai

kaise paao mujhe jo tum dekho
satah-e-saahil se meri gehraai

jin mein ham khel kar jawaan hue
wahi galiyaan hui tamaashaai

आओ तुम ही करो मसीहाई
अब बहलती नहीं है तन्हाई

तुम गए थे तो साथ ले जाते
अब ये किस काम की है बीनाई

हम कि थे लज़्ज़त-ए-हयात में गुम
जाँ से इक मौज-ए-तिश्नगी आई

हम-सफ़र ख़ुश न हो मोहब्बत से
जाने हम किस के हों तमन्नाई

कोई दीवाना कहता जाता था
ज़िंदगी ये नहीं मिरे भाई

अव्वल-ए-इश्क़ में ख़बर भी न थी
इज़्ज़तें बख़्शती है रुस्वाई

कैसे पाओ मुझे जो तुम देखो
सतह-ए-साहिल से मेरी गहराई

जिन में हम खेल कर जवान हुए
वही गलियाँ हुईं तमाशाई

- Obaidullah Aleem
1 Like

Alone Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Alone Shayari Shayari