nigaar-e-subh ki ummeed mein pighalte hue | निगार-ए-सुब्ह की उम्मीद में पिघलते हुए - Obaidullah Aleem

nigaar-e-subh ki ummeed mein pighalte hue
charaagh khud ko nahin dekhta hai jalte hue

vo husn us ka bayaan kya kare jo dekhta ho
har ik ada ke kai qad naye nikalte hue

vo mauj-e-may-kada-e-rang hai badan us ka
ki hain talaatum-e-may se suboo uchhalte hue

to zarra zarra us aalam ka hai zulekha sifat
chale jo dast-e-bala mein koi sambhalte hue

ye rooh kheenchti chali ja rahi hai kis ki taraf
ye paanv kyun nahin thakte hamaare chalte hue

usi ke naam ki khushboo se saans chalti rahe
usi ka naam zabaan par ho dam nikalte hue

khayal o khwaab ke kya kya na silsile nikle
charaagh jalte hue aftaab dhalti hue

andhere hain yahan suraj ke naam par raushan
ujaalon se yahan dekhe hain log jalte hue

utaar in mein koi apni raushni ya rab
ki log thak gaye zulmat se ab bahalte hue

vo aa rahe hain zamaane ki tum bhi dekhoge
khuda ke haath se insaan ko badalte hue

vo subh hogi to fir'aun phir na guzarenge
dilon ko raundte insaan ko maslate hue

निगार-ए-सुब्ह की उम्मीद में पिघलते हुए
चराग़ ख़ुद को नहीं देखता है जलते हुए

वो हुस्न उस का बयाँ क्या करे जो देखता हो
हर इक अदा के कई क़द नए निकलते हुए

वो मौज-ए-मय-कदा-ए-रंग है बदन उस का
कि हैं तलातुम-ए-मय से सुबू उछलते हुए

तो ज़र्रा ज़र्रा उस आलम का है ज़ुलेख़ा सिफ़त
चले जो दश्त-ए-बला में कोई सँभलते हुए

ये रूह खींचती चली जा रही है किस की तरफ़
ये पाँव क्यूँ नहीं थकते हमारे चलते हुए

उसी के नाम की ख़ुशबू से साँस चलती रहे
उसी का नाम ज़बाँ पर हो दम निकलते हुए

ख़याल ओ ख़्वाब के क्या क्या न सिलसिले निकले
चराग़ जलते हुए आफ़्ताब ढलते हुए

अँधेरे हैं यहाँ सूरज के नाम पर रौशन
उजालों से यहाँ देखे हैं लोग जलते हुए

उतार इन में कोई अपनी रौशनी या रब
कि लोग थक गए ज़ुल्मत से अब बहलते हुए

वो आ रहे हैं ज़माने कि तुम भी देखोगे
ख़ुदा के हाथ से इंसान को बदलते हुए

वो सुब्ह होगी तो फ़िरऔन फिर न गुज़़रेंगे
दिलों को रौंदते इंसान को मसलते हुए

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Khuda Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Khuda Shayari Shayari