dil hi the ham dukhe hue tum ne dukha liya to kya | दिल ही थे हम दुखे हुए तुम ने दुखा लिया तो क्या - Obaidullah Aleem

dil hi the ham dukhe hue tum ne dukha liya to kya
tum bhi to be-amaan hue ham ko sata liya to kya

aap ke ghar mein har taraf manzar-e-maah-o-aftaab
ek charaagh-e-shaam agar main ne jala liya to kya

baagh ka baagh aap ki dastaras-e-hawas mein hai
ek gareeb ne agar phool utha liya to kya

lutf ye hai ki aadmi aam kare bahaar ko
mauj-e-hawa-e-rang mein aap naha liya to kya

ab kahi bolta nahin ghaib jo kholta nahin
aisa agar koi khuda tum ne bana liya to kya

jo hai khuda ka aadmi us ki hai saltanat alag
zulm ne zulm se agar haath mila liya to kya

aaj ki hai jo karbala kal pe hai us ka faisla
aaj hi aap ne agar jashn manaa liya to kya

log dukhe hue tamaam rang bujhe hue tamaam
aise mein ahl-e-shaam ne shehar saja liya to kya

padhta nahin hai ab koi sunta nahin hai ab koi
harf jaga liya to kya sher suna liya to kya

दिल ही थे हम दुखे हुए तुम ने दुखा लिया तो क्या
तुम भी तो बे-अमाँ हुए हम को सता लिया तो क्या

आप के घर में हर तरफ़ मंज़र-ए-माह-ओ-आफ़्ताब
एक चराग़-ए-शाम अगर मैं ने जला लिया तो क्या

बाग़ का बाग़ आप की दस्तरस-ए-हवस में है
एक ग़रीब ने अगर फूल उठा लिया तो क्या

लुत्फ़ ये है कि आदमी आम करे बहार को
मौज-ए-हवा-ए-रंग में आप नहा लिया तो क्या

अब कहीं बोलता नहीं ग़ैब जो खोलता नहीं
ऐसा अगर कोई ख़ुदा तुम ने बना लिया तो क्या

जो है ख़ुदा का आदमी उस की है सल्तनत अलग
ज़ुल्म ने ज़ुल्म से अगर हाथ मिला लिया तो क्या

आज की है जो कर्बला कल पे है उस का फ़ैसला
आज ही आप ने अगर जश्न मना लिया तो क्या

लोग दुखे हुए तमाम रंग बुझे हुए तमाम
ऐसे में अहल-ए-शाम ने शहर सजा लिया तो क्या

पढ़ता नहीं है अब कोई सुनता नहीं है अब कोई
हर्फ़ जगा लिया तो क्या शेर सुना लिया तो क्या

- Obaidullah Aleem
1 Like

Anjam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Anjam Shayari Shayari