jawaani kya hui ik raat ki kahaani hui | जवानी क्या हुई इक रात की कहानी हुई - Obaidullah Aleem

jawaani kya hui ik raat ki kahaani hui
badan puraana hua rooh bhi puraani hui

koi aziz nahin ma-sivaa-e-zaat hamein
agar hua hai to yun jaise zindagaani hui

na hogi khushk ki shaayad vo laut aaye phir
ye kisht guzre hue abr ki nishaani hui

tum apne rang nahaao main apni mauj udoon
vo baat bhool bhi jaao jo aani-jaani hui

main us ko bhool gaya hoon vo mujh ko bhool gaya
to phir ye dil pe kyun dastak si naa-gahaani hui

kahaan tak aur bhala jaan ka ham ziyaan karte
bichhad gaya hai to ye us ki meherbaani hui

जवानी क्या हुई इक रात की कहानी हुई
बदन पुराना हुआ रूह भी पुरानी हुई

कोई अज़ीज़ नहीं मा-सिवा-ए-ज़ात हमें
अगर हुआ है तो यूँ जैसे ज़िंदगानी हुई

न होगी ख़ुश्क कि शायद वो लौट आए फिर
ये किश्त गुज़रे हुए अब्र की निशानी हुई

तुम अपने रंग नहाओ मैं अपनी मौज उड़ूँ
वो बात भूल भी जाओ जो आनी-जानी हुई

मैं उस को भूल गया हूँ वो मुझ को भूल गया
तो फिर ये दिल पे क्यूँ दस्तक सी ना-गहानी हुई

कहाँ तक और भला जाँ का हम ज़ियाँ करते
बिछड़ गया है तो ये उस की मेहरबानी हुई

- Obaidullah Aleem
1 Like

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari